मंडूकासन करने की सही विधि, लाभ और सावधानियां-Mandukasana Benefits in Hindi

www.aushadhiauryog.com

मंडूकासन का परिचय :

दोस्तों मंडूक का अर्थ मेंढक होता है अर्थात इस आसन को करते समय हमें अपने शरीर को मेंढक के आकार में लाने का प्रयास करना होता है। वैसे तो इस आसन को करने की कई विधियां हैं लेकिन हम आपको यहां सबसे प्रचलित विधि के बारे में बताएंगे।


मंडूकासन करने की विधि :

  1. सबसे पहले आप वज्रासन में बैठ जाएं,
  2. अब दोनों हाथों की मुट्ठी बंद करें और नाभि के पास लाए,
  3. मुट्ठी बंद करते समय अंगूठे को अंगुलियों के अंदर दबाए,
  4. सांस छोड़ते हुए अब आगे की ओर झुके और नाभि पर ज्यादा से ज्यादा दबाव डालें,
  5. सिर व गर्दन उठाए रखें व दृष्टि सामने की ओर होनी चाहिए,
  6. धीरे-धीरे सांस लें और धीरे-धीरे सांस छोड़ें इस अवस्था को कुछ समय तक बनाए रखें,
  7. फिर सांस लेते हुए अपनी सामान्य अवस्था में वापस आ जाएं और विश्राम करें। 

इस प्रकार से मंडूकासन का एक चक्र पूर्ण हुआ । शुरुआत में आप दो से तीन चक्र का ही अभ्यास करें।


मंडूकासन करने के लाभ :

  • डायबिटीज के रोगियों के लिए-

मंडूकासन करने का सबसे बड़ा लाभ मधुमेह अर्थात डायबिटीज के मरीज को मिलता है क्योंकि इसको करने से अग्नाशय को बल मिलता है और इंसुलिन का स्त्राव संतुलित होता है।

  • कब्ज दूर करने के लिए-

जी हां दोस्तों कब्ज के रोगियों के लिए मंडूकासन रामबाण की तरह काम करता है। इसको करने से एंजाइम और हार्मोन का स्त्राव बेहतर होता है जो भोजन के पाचन में मदद करता है। यह आसन करने से कब्ज एवं अपच जैसी अनेकों परेशानियों का समाधान होता है।

  • गैस की परेशानी दूर करने के लिए-

यदि आप भी लंबे समय से पेट की गैस से परेशान हैं तो मंडूकासन सिर्फ और सिर्फ आपके लिए ही है। इसको करने के दौरान कुछ ही सेकंड में पेट की गैस बाहर निकलना शुरू हो जाती है।

  • बाहर निकली हुई तोंद के लिए-

अगर आप की तोंद भी बहुत ज्यादा बाहर निकली है और आपके पास जिम जाने का समय बिल्कुल नहीं है तो आप घर पर ही मंडूक आसन का अभ्यास करके कुछ ही महीनों में बाहर निकली हुई तोंद से छुटकारा पा सकते हैं।

  • पेट की सभी समस्याओं के लिए-

उपरोक्त बताई गई समस्याओं से मंडूकासन छुटकारा तो दिलाता ही है इसके अलावा पेट की कई अन्य प्रकार की बीमारियों वह विकारों से मंडूकासन छुटकारा दिलाता है। इसको करने से पेट हल्का रहता है वह भूख खुलकर लगती है। इस प्रकार यह संपूर्ण शारीरिक स्वास्थ्य के लिए अति उत्तम आसन है।


सावधानियां :

  1. मंडूकासन करते समय निम्नलिखित सावधानियां बरतनी चाहिए-
  2. मंडूकासन सिर्फ खाली पेट करें,
  3. पेट में कोई गंभीर विकार या ऑपरेशन हुआ हो तो इस आसन को ना करें,
  4. पीठ दर्द के रोगी इस आसन को ना करें,
  5. नाभि की समस्या होने पर भी इस आसन को ना करें,
  6. हाइपर एसिडिटी की समस्या हो तो भी इस आसन को करने से बचना चाहिए।


मंडूकासन प्रश्न और उत्तर (Mandukasana QnA)

प्रश्न- क्या मंडूकासन हर कोई कर सकता है ?
उत्तर- जी हाँ, मंडूकासन हर उम्र के बच्चे, बूढ़े, जवान व्यक्ति कर सकते हैं
प्रश्न- क्या मंडूकासन भोजन करने के बाद कर सकते हैं?
उत्तर- नहीं, मंडूकासन भोजन करने के बाद बिलकुल न करें, ऐसा करने से आंतो को नुकसान पहुच सकता है
प्रश्न- क्या गैस के मरीज मंडूकासन कर सकते है?
उत्तर- जी बिलकुल, गैस की परेशानी के लिए मंडूकासन एक रामबाण आसन साबित होता है 
प्रश्न- क्या मंडूकासन दिन में कभी भी किया जा सकता है?
उत्तर- नहीं, मंडूकासन करने का सबसे उपयुक्त समय सुबह का होता है, जब आपने तुरंत पेट साफ किया हो
प्रश्न- मंडूकासन कम से कम और अधिक से अधिक कितनी देर करना चाहिए?
उत्तर- मंडूकासन एक चक्र में कम से कम 10 सेकंड और अधिक से अधिक ३० सेकंड करना चाहिए


Disclaimer:

कोई भी आसन करने से पहले कृपया अपने योग गुरु से अवश्य परामर्श ले लें। सभी आसन अभ्यासी को बताए गए नियम अनुसार ही करना चाहिए। गलत प्रकार से आसन करने पर कुछ मामलों में शरीर को नुकसान भी पहुंच सकता है।

                             

Tags: mandukasana, mandukasana karne ki vidhi, mandukasana in Hindi, mandukasana benefits, mandukasana kaise karen, mandukasana step by step.

Post a Comment

और नया पुराने