आज जान लीजिए....शीर्षासन करने के ये अदभुत फायदे। गारंटी है इसको प्रतिदिन किए बिना आप भी नहीं रह पाओगे।

www.aushadhiauryog.com


शीर्षासन का परिचय :

दोस्तों शीर्षासन करने से संपूर्ण शरीर को जबरदस्त लाभ पहुंचता है। आपकी गर्दन की मांसपेशियों को मजबूत करता ही है साथ ही साथ शीर्षासन करनेे से पूरे शरीर के रक्त परिसंचरण भी सुधार होताा हैै।

शीर्षासन करने की विधि :

  1. सबसे पहले आप 10 सेकंड के लिए वज्रासन में बैठ जाए।
  2. अब कोई रूमाल या मुलायम कपड़ा दो से तीन बार फोल्ड करके सामने रख लें।
  3. अब अपनी हथेली की अंगुलियों को इंटरलॉक करें और फोल्ड किए हुए कपड़े पर रखें।
  4. अब हथेलियों पर सिर रखकर आगे की ओर झुकते हुए घुटनों को सीधा करें।
  5. अब अपना एक पैर हवा में ऊपर उठाने का प्रयास करें।
  6. धीरे से अपने शरीर का पूरा भार सिर पर टिकने का प्रयास करें और दूसरे पैर को भी हवा में ऊपर उठा ले।
  7. अब इस स्थिति में लगभग 10 से 15 सेकंड तक खुद को बनाए रखें तथा सांसो की गति को सामान्य बनाए रखें।
  8. अब धीरे-धीरे पुनः अपने सामान्य अवस्था में लौट आए।
  9. अब शव आसन में 5 मिनट तक विश्राम करें ।

शीर्षासन करने के लाभ :

  • नेत्रों की रोशनी में सुधार आता है,
  • शरीर का भार संतुलित हो जाता है,
  • रक्त परिसंचरण तंत्र मजबूत होता है,
  • गर्दन कंधे और बाहों की मांसपेशियां मजबूत होती है,
  • अंडकोष और जननांगों की बीमारियों से छुटकारा मिल जाता है,
  • स्वप्न दोष से मुक्ति मिलती है,
  • बुढ़ापा पास नहीं फटकता है,
  • पाचन क्रिया में सुधार होता है,
  • यादास्त में सुधर होता है,
  • बालों का झड़ना बन्द हो जाता है,
  • ब्रम्हचर्य का पालन करने में आसानी होती है।

चेतावनी :

  1. प्रारंभ में शीर्षासन मात्र 5 से 10 सेकंड के लिए ही किया जाना चाहिए।
  2. शीर्षासन करने के बाद तुरंत ही उठकर सीधा खड़ा कभी नहीं होना चाहिए। ऐसा करने से नेत्रों व मस्तिष्क को भारी नुकसान पहुंच सकता है।
  3. प्रारंभ में शेर शीर्षासन दीवार के सहारे किसी मुलायम बिस्तर पर या बेड पर करना चाहिए अन्यथा पीछे की ओर गिरने से चोट लग सकती हैं।
  4. प्रारंभ में शीर्षासन करने के लिए किसी अन्य व्यक्ति या ट्रेनर का सहयोग जरूर लें।


                         

Disclaimer : उपरोक्त दी गई जानकारी केवल सूचना के उद्देश्य से हैं। दी गई सूचना का स्रोत विभिन्न समाचार पत्र, इंटरनेट, व कुछ विशेष व्यक्तियों के अनुभव हैं। कोई भी शीर्षासन करने से पहले कृपया अपने योग गुरु या प्रशिक्षक से सलाह अवश्य ले लें। कोई भी आसान गलत तरीके से करने से शरीर को नुकसान पहुंच सकता है।

Tags : sirsasan karne ke fayde, sirsasan kaise karen, sirsasan karne ka sahi tarika, sirsasan karne ke niyam, shirshasan karne ke fayde aur nuksan, headstand yoga, how to do headstand yoga at home, घर पर शीर्षासन कैसे करें, शीर्षासन करने के फायदे, शीर्षासन करने का सही तरीका, शीर्षासन करने के नियम, शीर्षासन करने के चमत्कारी लाभ, headstand yoga step by step, benefits of headstand yoga.

Post a Comment

नया पेज पुराने