गोमुखासन करने की सही विधि,लाभ और सावधानियां-Gomukhasana Benefits in Hindi

gomukhasana karne ki vidhi


गोमुखासन: परिचय-Introduction to cow face pose

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आप सभी का एक बार फिर से औषधि और योग में। दोस्तों आज हम जानेंगे एक अत्यंत चमत्कारी और लाभदायक योगासन के बारे में जिसका नाम है गोमुखासन। गोमुखासन को अंग्रेजी भाषा में cow face pose भी कहा जाता है। गोमुखासन करने के लिए हमें अपने शरीर को गाय के मुख के समान वाली मुद्रा में लाना होता है।
दोस्तों गोमुखासन भारतीय हट योगियों में बहुत प्रचलित आसन है। गोमुखासन को लगभग हर उम्र के सभी स्त्री-पुरुष बच्चे कर सकते हैं। गोमुखासन करने से मुख्य रूप से हमारे कंधे, कूल्हे, नितंबों और हाथों की मांसपेशियां बलिष्ठ बनती हैं।
वही दोस्तों जानते हैं गोमुखासन करने की सही विधि लाभ और सावधानियों के बारे में विस्तार पूर्वक-

गोमुखासन करने के फायदे-Health benefits of Gomukhasana in Hindi

आईये जानते हैं गोमुखासन करने अद्भुत फायदों के बारे में-

बवासीर में गोमुखासन के फायदे-

जी हां दोस्तों जो व्यक्ति बवासीर के शुरुआती लक्षणों से ग्रसित हैं अर्थात जिनको 1st स्टेज 2nd स्टेज की पाइल्स अर्थात बवासीर है, यदि वे नियमित रूप से सुबह-शाम गोमुखासन का सही अभ्यास करते हैं तो उनकी यह बवासीर की समस्या धीरे-धीरे समाप्त होने लगती है।

अस्थमा में गोमुखासन के फायदे-

जिन व्यक्तियों का स्वसन तंत्र कमजोर पड़ गया है या फेफड़ों की क्रियाशीलता कम हो गई है उनके लिए गोमुखासन एक रामबाण आसन साबित होता है। गोमुखासन करने से व्यक्ति की फेफड़ों की क्रियाशीलता बढ़ती है और साथ ही साथ फेफड़े शुद्ध होकर मजबूत बनते हैं।इस आसन का निरंतर प्रयोग करने से दमा रोग अर्थात अस्थमा से छुटकारा मिल जाता है।

रीढ की हड्डी को मजबूत बनाए गोमुखासन-

जो व्यक्ति निरंतर गोमुखासन का अभ्यास करते हैं वह वृद्धावस्था में रीड की हड्डी के झुकाव की समस्या से बच सकते हैं। गोमुखासन हमारी रीढ़ की हड्डी को सीधा बनाए रखने में मदद करता है वह इसे मजबूत भी बनाता है।

गोमुखासन दिलाए कूल्हे, जांघों और कंधों के दर्द से छुटकारा-

जी हां दोस्तों गोमुखासन के अभ्यास में अभ्यासी के जांघों, कूल्हों व कंधों की मांसपेशियों में तनाव आता है, जिसकी वजह से यहां की मांसपेशियां मजबूत बनती है व इनमें होने वाला दर्द भी समाप्त हो जाता है।

गोमुखासन बनाए स्नायुमंडल को मजबूत-

गोमुखासन का नियमित अभ्यास करने वाले अभ्यासी का स्नायु मंडल मजबूत बनता है साथ ही साथ इसके अभ्यास के द्वारा मन को शांत रखने की क्षमता प्राप्त होने लगती है।

गोमुखासन करने की विधि-Cow Face Pose Steps

  1. सबसे पहले आप वज्रासन में बैठ जा
  2. अब बाईं टांग को मोड़ते हुए एड़ी को नितंब के नीचे ले जाकर दाएं नितंब को एड़ी पर रखकर बैठ जाएं
  3. अब दाईं टांग को ऐसा मोरे की एडी के बाएं नितंब के पास आ जाए
  4. अब बाएं हाथ को पीछे से मोड़कर हथेली के बाहर की ओर रखते हुए ऊपर की ओर लाने का प्रयास करें
  5. इसके पश्चात दाएं हाथ को ऊपर और कोहनी सीधी करते हुए दोनों हाथों की अंगुलियों को एक दूसरे में फंसा ले
  6. थोड़ी देर इसी मुद्रा में रहे इसके पश्चात क्रम बदलकर द्वितीय चरण का अभ्यास करें।

गोमुखासन करने में सावधानियां-Precautions

  • जिन व्यक्तियों ने कंधे, कूल्हे या नितंबों का ऑपरेशन कराया है उन्हें इस आसन को नहीं करना चाहिए
  • खूनी बवासीर के रोगियों को गोमुखासन करने से बचना चाहिए
  • गर्भावस्था के दौरान महिलाएं यह आसन बिल्कुल न करें
  • प्रारंभ में इस आसन को करने में बल और हठ का प्रयोग ना करें
  • गोमुखासन करने से पूर्व अपने योग गुरु से अवश्य सलाह ले लें।

Disclaimer:

कोई भी आसन करने से पहले कृपया अपने योग गुरु से अवश्य परामर्श ले लें। सभी आसन अभ्यासी को बताए गए नियम अनुसार ही करना चाहिए। गलत प्रकार से आसन करने पर कुछ मामलों में शरीर को नुकसान भी पहुंच सकता है


Tags: gomukhasana benefits, gomukhasana steps, gomukhasana posture, gomukhasana benefits in hindi, gomukhasana variation, precautions of gomukhasana, gomukhasana contraindications, गोमुखासन की जानकारी, गोमुखासन क्या है, गोमुखासन करने के फायदे, गोमुखासन का चित्र, गोमुखासन कैसे करते हैं, गोमुखासन 

Post a Comment

और नया पुराने