काली किसमिस है रोगों का काल: इन खास बीमारियों में ऐसे करें सही इस्तेमाल-

black raisin benefit in Hindi
Image: Credit Pixabay
नमस्कार दोस्तों, स्वागत है आपका औषधि और योग में। दोस्तों आपने काली किसमिस के बारे में जरूर सुना होगा लेकिन क्या आप इसके खास फायदों के बारे में जानते हैं। काली किशमिश खाने के अनेकों फायदे हैं किंतु कुछ खास फायदों के बारे में आज हम यहां पर चर्चा करेंगे। दोस्तों काली किशमिश एक खास तरह की किस्में होती है जो बीमार तथा कमजोर व्यक्तियों के लिए किसी रामबाण से कम नहीं है।

परिचय :

काली किशमिश में विभिन्न प्रकार के विटामिंस मिनरल्स, आयरन, पोटेशियम, ऊर्जा अन्य प्रकार के कई एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं, जो शरीर की रक्षा लगभग हर रोग से करते हैं। दोस्तों इस को खाने का तरीका बिल्कुल अलग है इसे आप स्वाद के लिए भी खा सकते हैं किंतु यदि आप इसके सभी औषधीय गुणों का लाभ लेना चाहते हैं तो इसका सेवन निम्न प्रकार से करना चाहिए। आइए जानते हैं किन किन रोगों में काली किशमिश का प्रयोग किया जाता है।

  • काली किशमिश बढ़ाए शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता

जी हां दोस्तों किसी भी अन्य इम्यूनिटी बूस्टर फूड की अपेक्षा काली किशमिश का रोगों से लड़ने के लिए हमें अधिक शक्ति प्रदान करती है। अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता के कारण काली किशमिश का प्रयोग लगभग हर प्रकार के सर्दी जुकाम और वायरल इंफेक्शन में किया जाता है। काली किशमिश का प्रयोग खाकसीर और अंजीर के साथ करने पर या टाइफाइड को भी मात्र 3 से 4 दिनों में ठीक कर सकता है।

  • काली किशमिश करें एनीमिया को दूर

जी हां दोस्तों काली किशमिश का सेवन कुछ सप्ताह तक करने से शरीर में खून की कमी दूर हो जाती है। काली किशमिश में आयरन अर्थात लौह तत्व की मात्रा में पाया जाता है इसलिए यह एनीमिया से लड़ने का एक बेहतर विकल्प है। काली किशमिश का प्रयोग करते रहने से शारीरिक थकान व चक्कर आना जैसी समस्याओं से भी छुटकारा पाया जा सकता है।

  • काली किशमिश बचाए ऑस्टियोपोरोसिस से

दोस्तों अक्सर भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग अपनी डाइट का ध्यान रखना भूल जाते हैं जिसकी वजह से वह अपने आहार में सभी पोषक तत्व को शामिल नहीं कर पाते हैं। ऑस्टियोपोरोसिस भी एक ऐसी ही लापरवाही का नतीजा होता है जोकि शरीर में कैल्शियम और फास्फोरस की कमी से पैदा होता है। इस रोग में रोगी की हड्डियां बहुत नरम हो जाती हैं तथा आसानी से टूट जाती है। कई बार नीचे झुकने का कोई भारी वजन उठाने से भी हड्डियां टूट जाती हैं। दोस्तों ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या से बचने के लिए हमें अपने भोजन में काली किशमिश को भी जरूर शामिल करना चाहिए। अपनी डाइट में काली किशमिश को शामिल करने से हम प्रतिदिन की कैल्शियम की आवश्यकता को पूरा कर सकते हैं।

  • काली किशमिश बचाए उच्च रक्तचाप से

दोस्तों जिन व्यक्तियों का ब्लड प्रेशर अक्सर हाई रहता है उन्हें काली किशमिश का सेवन करने की सलाह दी जाती है। काली किशमिश से रक्त में मौजूद सोडियम की मात्रा को नियंत्रित करती है जिसकी वजह से धमनियों का संकुचन कम होता है और ब्लड प्रेशर की समस्या धीरे-धीरे दूर होने लगती है।

  • काली किशमिश दिलाए कब्ज से छुटकारा

जी हां दोस्तों काली किशमिश मैं फाइबर अर्थात रेशे की अच्छी मात्रा पाई जाती हैं जिसकी वजह से यह हमारे पेट के लिए भी वरदान साबित होती है। काली किशमिश खाने से हमारी पाचन शक्ति अच्छी होती है वह सुबह खुलकर पेट साफ होता है। सुबह निराहार रात्रि में भिगो कर रखी हुई काली किशमिश खाने से कब्ज की समस्या कुछ ही दिनों में जड़ से समाप्त हो जाती है।


  • बवासीर में काली किशमिश के लाभ

जी हां दोस्तों अक्सर या देखा गया है की बवासीर के मरीज को सख्त मल आने के कारण उसके मस्सों में रगड़ लग जाती है जिस कारण गुदाद्वार से खून आने लगता है। ऐसे में यदि काली किशमिश का प्रयोग किया जाए तो सख्त मल इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है जिससे बवाशीर के मरीज को राहत मिलती है।इसके सेवन से बवाशीर के मस्सों का आकार भी कम होने लगता है।




Tags:सुबह खाली पेट काली किशमिश खाने के फायदे, ब्लैक किशमिश खाने के फायदे, किशमिश के फायदे और नुकसान, हरी किशमिश के फायदे, किशमिश का पानी पीने के फायदे और नुकसान, काली किशमिश का पानी पीने के फायदे, मुनक्का के फायदे, काली किशमिश की तासीर

Post a Comment

और नया पुराने