-->

Ad

bachon ke liye jayfal ke fayde


Health Desk: जायफल एक अत्यंत गुणकारी और भोजन में स्वाद को बढ़ाने वाला खाद्य पदार्थ है। सदियों से इसका प्रयोग अपने स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए मनुष्य करता आया है। किंतु आज इस लेख के माध्यम से हम चर्चा करेंगे बच्चों को जायफल के किन स्वास्थ्य समस्याओं में देना चाहिए और इसकी सेवन की सही मात्रा क्या है और साथ ही साथ हम यह भी जानेंगे कि जायफल के सेवन में हमें कौन कौन सी सावधानियां रखनी चाहिए।

दोस्तों अधिकांश लोग जायफल का उपयोग मसालों के रूप में भोजन में स्वाद और सुगंध को बढ़ाने के लिए करते हैं। जायफल गर्म प्रकृति का मसाला है इसलिए इसका प्रयोग अधिकांश रूप से सर्दियों में ही किया जाता है। जायफल में एंटीबायोटिक, एंटी बैक्टीरियल और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं इसलिए यह हमारे लिए एक अच्छी इम्यूनिटी बूस्टर का भी काम करता है। दोस्तों इन्ही सभी औषधीय गुणों की वजह से जायफल का प्रयोग बच्चे बूढ़े और जवान सब के लिए फायदेमंद होता है।

आइए जानते हैं बच्चों के लिए जायफल (jaifal benefits for babies) किस प्रकार से लाभकारी है और बच्चों के लिए जायफल (benefits of nutmeg for children in hindi) के सेवन की सही विधि और सही मात्रा क्या है -

बच्चों के लिए जायफल के फायदे -Nutmeg Benefits for Children and Babies in Hindi

1- जायफल दिलाए बच्चों को अपच की समस्या से छुटकारा

दोस्तों आपने अक्सर देखा होगा कि छोटे बच्चे दूध पीने के बाद जल्दी ही उल्टी से दूध बाहर कर देते हैं। ऐसा उनकी अल्पविकसित पाचन तंत्र की वजह से होता है। इसके अलावा कई बार बच्चा जब जरूरत से अधिक दूध पी लेता है तो उसे बदहजमी भी हो जाती है। इसके साथ ही साथ बच्चों के पेट में गैस बनना दर्द होना या दस्त की समस्या भी देखने को मिलती है।

इन सभी समस्याओं को दूर करने के लिए बच्चों को जायफल की 0.5 से 1 मिलीग्राम मात्रा अर्थात चुटकी भर जायफल चूर्ण देना पर्याप्त होता है। बच्चे की समस्या के अनुसार जायफल देने की सही मात्रा की जानकारी अपने चिकित्सक से अवश्य ले लेनी चाहिए।

2- बच्चों के पेट दर्द व ऐठन में जायफल के लाभ

दोस्तों उपरोक्त समस्या के साथ-साथ यदि बच्चों के पेट में ऐठन या मरोड़ की समस्या है या बच्चा दर्द से परेशान होकर चीखता चिल्लाता रहता है तो जायफल के चूर्ण को घी या शहद के साथ मिलाकर उसकी नाभि पर लगाने से बच्चों को पेट दर्द व मरोड़ से जल्द राहत मिलती है। थोड़ी मात्रा में जायफल को शहद में मिलाकर देने से बच्चों की कब्ज की समस्या दूर हो जाती है और पाचन क्रिया में सुधार होता है।

3- बच्चों की अच्छी नींद के लिए जायफल का प्रयोग

दोस्तों कुछ बच्चों में नींद ना आने की समस्या पाई जाती है या किसी कारणवश उनकी नींद टूट जाती है तो बच्चे लगातार रोते रहते हैं और आसानी से शांत नहीं होते।
ऐसी हालत में यदि बच्चों को दूध में थोड़ी सी मात्रा में जायफल दिया जाए तो उन्हें अच्छी नींद आती है और वे शांत होकर आसानी से सो जाते हैं।

4- बच्चों की सर्दी-खांसी में जायफल के फायदे

जी हां दोस्तों सर्दी खांसी में भी जायफल का प्रयोग बच्चों, बूढ़ों व जवानों के लिए हमेशा से होता आया है। स्त्री हो या पुरुष जायफल सभी के लिए समान रूप से लाभदायक होता है। बस हमें जायफल की ली जाने वाली सही मात्रा का ज्ञान होना आवश्यक होता है।

सर्दी जुखाम में जायफल को बच्चों को देने का सबसे सही तरीका कुछ इस प्रकार है-
सबसे पहले एक चम्मच भर दूध लेना चाहिए। अब एक जायफल का टुकड़ा लेकर उसे उसे थोड़े पानी के साथ पत्थर पर घिस लेना चाहिए। इस प्रकार से जायफल का दो से तीन बूंद का पेस्ट तैयार हो जाएगा। इतनी ही मात्रा में चाय फल को अपनी अंगुलियों से बच्चे को चटाने से सर्दी जुकाम की समस्या मैं शीघ्र लाभ मिलता है और जल्द ही सर्दी जुखाम ठीक हो जाता है।

5- बच्चों के कान दर्द में जायफल के फायदे

जी हां दोस्तों यदि बच्चों के कान में कोई फुंसी हो गई है या गंदगी की वजह से कान में इंफेक्शन हो गया है तो ऐसी अवस्था में जायफल का प्रयोग बहुत लाभदायक माना जाता है। बच्चों में कानों की इस समस्या को ठीक करने के लिए जायफल के तेल का प्रयोग अधिक उपयोगी माना जाता है।

जायफल के तेल की कुछ बूंदे कानों में टपकाने से कानों की सूजन कम हो जाती है और दर्द में भी लाभ मिलता है।

6- बच्चों की भूख बढ़ाने के लिए जायफल का प्रयोग

जी हां दोस्तों बहुत से बच्चे ऐसे होते हैं जिनकी पाचन क्रिया कमजोर होती है या उन्हें भोजन में रुचि नहीं होती। यदि ऐसी बच्चों को दूध में जायफल दिया जाए तो उनका मेटाबॉलिज्म बढ़ने लगता है और उन्हें भूख खुलकर लगती है। इस प्रयोग को करने से बच्चों में रोगों से लड़ने की क्षमता में भी वृद्धि होती है।

7- बच्चों में पेट के कीड़े खत्म करने के लिए जायफल का प्रयोग

जी हां दोस्तों अक्सर देखा गया है छोटे बच्चे पेट के कीड़ों की समस्या से परेशान रहते हैं। पेट के कीड़ों की समस्या की वजह से बच्चों में शारीरिक कमजोरी लगातार बनी रहती है। इस समस्या को दूर करने के लिए गांव के कुछ बूढ़े बुजुर्ग बच्चों को जायफल का सेवन कराते हैं। इसके सेवन से मात्र कुछ ही दिनों में पेट के कीड़े समाप्त होने लगते हैं और बच्चे का स्वास्थ्य सुधारने लगता है।

8- बच्चों की मुंह के छालों की समस्या में जायफल के लाभ

जी हां दोस्तों यदि बच्चे के मुंह में छाले पड़ गए हैं तो बच्चा ठीक से भोजन नहीं कर पाता है। ऐसी हालत में बच्चा कमजोर व चिड़चिड़ा होने लगता है। इस समस्या को दूर करने के लिए बच्चे को जायफल का प्रयोग मिश्री मिलाकर कराया जाता है।
इस प्रयोग को करने से बच्चे के छाले जल्द ही ठीक होने लगते हैं और साथ ही साथ बच्चे का पेट भी ठंडा बना रहता है।

सावधानियां

  1. बच्चों को खाली पेट जायफल ना दें.
  2. बच्चा बहुत बीमार है तो भी जायफल ना दें.
  3. बच्चों को निर्धारित मात्रा से अधिक जायफल ना दें.
  4. लंबे समय तक बच्चों को जायफल का सेवन ना कराए.
  5. गर्मियों में बच्चों को आधी मात्रा में ही जायफल का सेवन कराएं.
  6. चिकित्सक से परामर्श लेने के बाद ही बच्चों को जायफल का सेवन कराएं

दोस्तों उपरोक्त बातों के अलावा जायफल के ढेरों फायदे हैं। इसलिए इसे अपनी डाइट में जरूर शामिल कर लेना चाहिए। परंतु इस बात का खास ख्याल रखना चाहिए कि जायफल का प्रयोग कभी भी जरूरत से अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से जायफल नुकसानदायक भी साबित हो सकता है। बच्चों को जायफल देने से पहले चिकित्सक की सलाह जरूर ले लेनी चाहिए।

Post a Comment

Please don't enter any spam link in the Comment Box- Thank You

और नया पुराने